search

Published 17-05-2021

लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग का प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार

ERECTILE DYSFUNCTION

लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग का प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार

Dr. Shivani Nautiyal

An Ayurvedic Practitioner and Consultant with a specialization in Panchkarma. My goal is to design an individual treatment plan to help each patient to achieve the best outcome possible. Treats Male and Female Fertility problems, Irregular Menstruation, Leucorrhea, UTI, COPD, Diabetes, Hypertension, Insomnia, Joint Pain, Arthritis, Sciatica, Skin problems, Alopecia, Grey Hairs, Gastric problems and other Lifestyle Disorders with Panchkarma Therapies and Ayurvedic Medicines.

लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग का प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार – लिंग का सही से तनाव न बन पाना एक बहुत ही सामान्य समस्या है। नपुंसकता जीवन शैली और तनाव संबंधी समस्याओं में से एक है। भारत में, 30 वर्ष से कम के लगभग 25% रोगी और 30 वर्ष से ऊपर के 60% रोगी लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग से पीड़ित हैं।

इस लेख के साथ, हमारा उद्देश्य आपको न केवल इस रोग के प्रकारों, लक्षणों और कारणों से अवगत कराना है, बल्कि यह भी साझा करना है कि हम इस समस्या को कैसे स्वाभाविक रूप से प्रबंधित कर सकते हैं।

“सम्भोग एक बुनियादी जरूरत है, लेकिन यौन व्यवहार एक सीखी हुई क्षमता है।”

धर्म (नैतिक मूल्य), अर्थ (समृद्धि), मोक्ष (आध्यात्मिक मूल्य), और कामेच्छा (आनंद / सेक्स) आयुर्वेद में वर्णित चार पुरुषार्थों (जीवन के उद्देश्यों) में से हैं। इन उद्देश्यों की पूर्ति प्रत्येक मनुष्य की एक मूलभूत आवश्यकता है। यौन प्रतिक्रिया के विभिन्न चरण हैं, और उनमें से सबसे आवश्यक है लिंग का सही तनाव प्राप्त कर पाना। इसकी अनुपस्थिति संभोग के दौरान विफलता और असंतोष पैदा कर सकती है। इस स्थिति को आयुर्वेद में कालिब्या (नपुंसकता ) और आधुनिक लेखन में लिंग का सही से तनाव न बन पाने के रूप में वर्णित किया गया है।

प्रकार और लक्षण

1. स्तंभन दोष (प्राथमिक और माध्यमिक नपुंसकता)

प्राथमिक नपुंसकता एक ऐसा मुद्दा है जब संभोग के उद्देश्य से एक पुरुष लिंग का सही से तनाव नहीं बना पता है। माध्यमिक नपुंसकता में, एक आदमी को सही से तनाव बना पाने में मुश्किल होती है पर वह अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार संभोग में सफल हो पाता है।

2. तीव्र स्खलन

तीव्र स्खलन लिंग का सही से तनाव न बन पाने का सबसे प्रचलित प्रकार है। इसके अंतर्गत, लिंग को योनि में प्रवेश करने के बाद 30 सेकंड से एक मिनट तक स्खलन करने में असमर्थता हो सकती है।

3. धीमा स्खलन (स्खलन अक्षमता)

इस कठिनाई वाले पुरुष 30 मिनट से एक घंटे तक लिंग का सही से तनाव बनाए रख सकते हैं, लेकिन एक महिला के अंदर स्खलन के बारे में मनोवैज्ञानिक चिंताओं के कारण, वे संभोग सुख प्राप्त करने में सक्षम नहीं होते हैं।

लिंग का सही से तनाव न बन पाना और आयुर्वेद

आयुर्वेद के अनुसार, ‘जीवन के तीन मुख्य आधार है – संतुलित आहार, उचित नींद और एक स्वस्थ यौन और वैवाहिक संबंध।’

एक स्वस्थ यौन संबंध के लिए, आयुर्वेद के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण पहलू अपान वायु (वायु का प्रकार) है। यह मानव शरीर के पांच प्रकार की वायु में से एक है और यह अंडकोष, मूत्राशय, शिश्न (खड़ा लिंग), नाभि, जांघों और कमर क्षेत्र में स्थित होता है। इसकी कार्यक्षमता में वीर्य का स्खलन और मूत्र एवं मल का उत्सर्जन शामिल है।

यह भी पढ़ें – शीघ्रपतन के आयुर्वेदिक हर्बल उपचार

इस अपान वायु में किसी भी तरह से कोई गड़बड़ी कई बीमारियों का कारण बन सकती है; लिंग का सही से तनाव न बन पाना उन बीमारियों में से एक है। अपान वायु की विकृति से जुड़े कारण, अनियमित या दोषपूर्ण दैनिक दिनचर्या से संबंधित है, उदाहरण के लिए, अनुचित आहार से कमर क्षेत्र की मांसपेशियां कमजोर होती हैं और वायु को प्रभावित करती है।

आयुर्वेद सात महत्वपूर्ण ऊतकों को भी दर्शाता है, जिन्हें धातु कहा जाता है। ये पूरे शरीर को पोषण, विकास और संरचना प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं। ये मानव शरीर के अंदर ठीक से काम करते हैं, जब वे उचित संतुलन में होते हैं; उनके संतुलन में किसी भी तरह की गड़बड़ी, बीमारियों का कारण बनता है।

ये सात धातु है, ऊतक प्लाज्मा (रस), रक्त, स्नायु (माँस), वसा (मेध), अस्थि, अस्थि मज्जा और नर्व (मज्जा), और वीर्य (शुक्र) है। शुक्र एक तत्व है जो मानव प्रजनन प्रणाली में मदद करता है और पूरे शरीर में मौजूद होता है। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से, शुक्र केवल स्खलन के साधनों के दौरान शरीर से बाहर निकलता है। शुक्र धातु के उत्पादन में कमी लिंग का सही से तनाव ना बन पाने का कारण बनती है।

आयुर्वेद ने दुनिया को प्राकृतिक उपचार का आशीर्वाद दिया है और आप चरक संहिता में लिंग का सही से तनाव न बन पाने के दोष का प्राकृतिक उपचार विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं से पा सकते हैं।

स्तंभन दोष के कारण

 

स्तंभन दोष के कारण

 

1. शारीरिक कारण

लिंग के आस-पास के हिस्सों में से किसी में चोट लगना जैसे नसों, धमनियों, चिकनी मांसपेशियों, रेशेदार ऊतक इतियादी लिंग का सही से तनाव न बन पाने के कारण हो सकते हैं।

2. टेस्टोस्टेरोन हार्मोन के निम्न स्तर

जैसा कि हम सभी जानते हैं, प्राथमिक पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) है। 40 वर्ष की आयु के बाद, एक आदमी का टेस्टोस्टेरोन स्तर धीरे-धीरे कम हो जाता है, जो लिंग का सही से तनाव न बन पाने का कारण बन सकता है।

3. उच्च शारीरिक और मानसिक परिश्रम

दफ्तर के काम या व्यक्तिगत मुद्दों के कारण मानसिक तनाव, क्रोध, और अपर्याप्त नींद इस रोग के कारण बन सकते है। इस प्रकार, शोक (दुःख), चिंता (तनाव), और भय/आतंक लिंग का तनाव बनने को भी प्रभावित कर सकता है।

4. अपने साथी के साथ खराब यौन सम्बन्ध

आपके साथी के साथ तनावपूर्ण संबंध या एक-दूसरे को नापसंद करना भी यह दोष के कारण हो सकते है।

5. रोग

आजकल, लोग जीवनशैली से जुड़ी कई बीमारियों से पीड़ित हैं और ये बीमारियाँ लिंग का सही से तनाव न बन पाने के रोग को भी जन्म दे सकती है। कुछ मुख्य कारण मानसिक तनाव, मधुमेह, गठिया, एनीमिया, और हृदय संबंधी समस्याएँ होते हैं। हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism)और पार्किंसंस (Parkinson’s) रोग को कुछ मामलों में इसका कारण भी माना जा सकता है।

6. विशिष्ट दवाओं का सेवन

ट्रैंक्विलाइज़र (Tranquilizer), एंटीडिप्रेसेंट (Antidepressant) और एंटीहाइपरटेन्शन (Antihypertension)  की गोलियों का अधिक समय तक उपयोग लिंग का तनाव ना बन पाने के रोग को जन्म दे सकता है। धूम्रपान, तंबाकू, शराब, कोकीन, हेरोइन और मारिजुआना की आदतें कुछ प्रमुख कारण हैं जो इस रोग को प्रभावित करती हैं।

7. विविध

यौन शोषण, मोटापा, यौवन अवस्था में की गयी गलतियां और वृद्धावस्था की बीमारियों को भी लिंग का सही से तनाव न बन पाने के कारणों के रूप में माना जाता है। आयुर्वेद बुढ़ापे के कारण नपुंसकता या स्तंभन दोष का कारण बताता है ऊतक तत्वों की कमी, शक्ति, ऊर्जा, जीवन की अवधि, स्वस्थ भोजन का सेवन करने में असमर्थता, शारीरिक और मानसिक थकान।

आयुर्वेदिक दवाओं के साथ लिंग का सही से तनाव न बन पाने के विभिन्न प्राकृतिक उपचार

अचार्य चरक ने (चरक संहिता में) लिंग का सही से तनाव ना बन पाने के इलाज के लिए कई प्राकृतिक उपचार सुझाए हैं, जो पूर्ण रूप से हर्बल हैं और बिना किसी दुष्प्रभाव के उपचार करने में सक्षम है। ये लिंग के सही से तनाव बनाये रखने की अवधि को बढ़ाकर समय से पहले स्खलन को रोकती है और पुरुष प्रजनन प्रणाली को फिर से जीवित करती है। नपुंसकता के लिए संपूर्ण उपचार को आयुर्वेद में वाजीकरण चिकित्सा के रूप में जाना जाता है।

स्तंभन दोष के लिए आयुर्वेदिक दवाएं

 

वाजीकरण (यौन उपचार) जड़ी बूटी या उपचार

विभिन्न प्राकृतिक उपचार और जड़ी-बूटियां लिंग का सही से तनाव न बन पाने का इलाज कर सकती हैं, और यहां, हमने आपको जल्दी से प्रभाव करने वाले उपाय बताए हैं।

1. अश्वगंधा

विथानिया सोमनीफ़ेरा (लैटिन नाम) को आमतौर पर अश्वगंधा या भारतीय जिनसेंग के रूप में जाना जाता है और इसे वाजीकरण की एक प्राथमिक दवा माना जाता है। अश्वगंधा में तनाव विरोधी (एंटी स्ट्रेस) या एडाप्टोजेनिक (Adaptogenic) गुण पाए जाते हैं,  जो लिंग के तनाव को प्रेरित कर यौन रोगों में एक प्रभावी जड़ी बूटी के रूप में काम करता है।

उपचार (खुराक) – 1 चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को दिन में दो बार दूध के साथ लें।

2. शिलाजीत

काले डामरटम पुंजाबिनम को आमतौर पर शिलाजीत के रूप में जाना जाता है जो उच्च पर्वत चट्टानों, विशेष रूप से हिमालय के पहाड़ों से निकलता है। इसके गुण एंटी एजिंग (Anit -ageing), एंटीऑक्सीडेंट(anti-oxident), स्मरण शक्ति (memory power) बढ़ाने वाले और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) हैं। यह यौन रोगों में इस्तेमाल होने वाली सबसे आम जड़ी बूटी है।

उपचार (खुराक) – शिलाजीत वटी की 1 गोली रात को सादे पानी के साथ लें।

3. सफ़ेद मुसली

क्लोरोफाइटम बोरिविलियनम (Chlorophytum Borivilianum) को आमतौर पर सफेद मूसली के रूप में जाना जाता है। मूसली के कंद में सैपोनिन शामिल हैं और इसमें कामोद्दीपक (Aphrodisiac), एडाप्टोजेनिक (Adaptogenic), एंटीजिंग (Antiaging) और स्वास्थ्य प्रतिबंधक गुण हैं।

उपचार (खुराक) – दिन में एक बार गुनगुने पानी या दूध के साथ १/२ चम्मच सफ़ेद मुसली चूर्ण लें।

4. शतावरी

ऐस्पेरेगस रेसीमोसस (Asparagus racemosus) को आमतौर पर शतावरी के रूप में जाना जाता है। यह प्राकृतिक जड़ी बूटी सैपोनिन (Saponin) में समृद्ध है जो एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) क्षमताओं से बना है। यह ऑक्सीडेटिव तनाव से भी लड़ता है जो लिंग के सही से तनाव न बन पाने का कारण बनता है।

उपचार (खुराक) – 1 चम्मच शतावरी चूर्ण को दिन में दो बार दूध के साथ लें।

लिंग का सही से तनाव न बन पाने के प्राकृतिक उपचार के लिए एक प्रभावी आहार

● पोषण भरी खुराक, हरी सब्जियां, मीट, क्रस्टेशियंस (समुद्री भोजन), मसल्स, मछली, अंडा, दूध, घी, और अन्य डेयरी उत्पादों का सेवन बढ़ाएँ।

● अधिक फल और सब्ज़ियाँ खाएं जिनमें विटामिन बी 3 (B3), सी (C) और डी (D) हो जैसे खट्टे फल, सालमन (Salmon) मछली, और कुकुरमुत्ता हों।

● मसालेदार, खट्टा, और जंक फूड या चीनी से बने खाद्य पदार्थों जैसे कि मिल्कशेक, शक्कर युक्त पेय, और केक से बचें।

● अपने आहार में लहसुन, प्याज, अंजीर, मेवे, केसर, शहद, और बादाम दूध को शामिल करें।

● ज्यादा से ज्यादा पानी पिएँ।

 

इंफ़ोग्राफ़िक

“लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग का प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार” पर इन्फोग्राफिक कृपया नीचे देखें। आप इस इन्फोग्राफिक का उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन www.healthybazar.com पर हमारा उल्लेख करना ना भूले।

लिंग के सही से तनाव न बन पाने के रोग का प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार

 

निष्कर्ष

लिंग का सही से तनाव न बन पाने का इलाज करने, यौन क्रिया को बढ़ाने और प्रजनन क्षमता में सुधार करने के लिए आयुर्वेद में विभिन्न जड़ी-बूटियों का संयोजन हैं। यह जड़ी-बूटियां कई स्वास्थ्य समस्याओं को हल करने के लिए जटिल रूप से कार्य करता है ।

आयुर्वेद में स्तंभन दोष की दवाएं लेने से, आसानी से इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है, जिसका उल्लेख हमने उचित आहार और जीवन शैली में किया है।
फिर भी, यदि आपको लगता है कि आप अपने स्वास्थ्य की चिंता का विश्लेषण करने या व्यक्तिगत उपचार पर चर्चा करने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करना चाहते हैं, तो आप विशेषज्ञ परामर्श के लिए ऑनलाइन हमसे परामर्श कर सकते हैं।

Last Updated: Jan 17, 2022

Related Articles

Male Sexual Health

शीघ्रपतन का इलाज करने के लिए आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार

Female Reproductive Health

How Do Sex Hormones affect Women’s Life

Urinary Tract Infection , Liver and Kidneys , Muscular Pain , Loss of Libido

Overcome the challenges of Urinary Tract Infection with Herbal Remedies

Related Products

Tikaram Naturals

Ashwagandha

0 star
(0)

Ashwagandha Root relieves stress and depression and improves memory.

₹ 540

Dabur

Shatavaryadi Churna

0 star
(0)

Boost your immune system and relieve cough, inflammations, ulcers, diarrhoea by using Dabur Shatavaryadi Churna.

₹ 75

Patanjali

Shilajit Rasayan Vati ( 60 TAB )

0 star
(0)

Patanjali Shilajit Rasayan Vati helps to treat male sexual disorders like erectile dysfunction.

₹ 38

Tikaram Naturals

Musli Safed

0 star
(0)

Safed Musli is useful in problems like spermatorrhea, oligospermia, premature ejaculation, erectile dysfunction, and infertility.

₹ 1800