search

Published 02-08-2022

गर्भवती महिलाओं के द्वारा की जाने वाली गलतियां !

PREGNANCY CARE

गर्भवती महिलाओं के द्वारा की जाने  वाली गलतियां !

Sonal Rani, approved by Dr. Shivani Nautiyal

माँ बनना एक बहुत खूबसूरत सफर है, लेकिन यह बिल्कुल भी आसान नहीं है! आपकी यात्रा ठीक उसी दिन शुरू होती है जिस दिन आप पहली बार सुनते हैं कि आपके गर्भ में एक भ्रूण/fetus बढ़ रहा है। लेकिन याद रखें, ये नौ महीने न केवल आपके लिए बल्कि आपके बच्चे के लिए भी कीमती हैं। गर्भावस्था की पहली तिमाही में इन गलतियों से बचें , और मातृत्व का आनंद लें। आगे हम बात करेंगे की प्रेग्नेंसी में क्या नहीं करना चाहिए। पहली तिमाही गर्भावस्था/प्रेग्नेंसी की बहुत नाजुक मोड़ है। इसलिए हम आपको तैयार करना चाहते हैं, ताकि आप इस दौरान कुछ सामान्य गलतियों से बच सकें, क्योंकि गर्भावस्था/प्रेग्नेंसी के दौरान आप जो कुछ भी करती हैं, महसूस करती हैं और खाती हैं उसका सीधा असर आपके शिशु पर पड़ता है। इसलिए, आप जो कुछ भी करते हैं उसके बारे में सतर्क रहना बहुत महत्वपूर्ण है।

7 गलतियाँ जो आपको गर्भावस्था की पहली तिमाही में नहीं करनी चाहिए: अपनी गर्भावस्था में इन सात गलतियों से बचें -

स्वयं दवा (Self-Medication) 

डॉक्टर द्वारा निर्धारित दवा ही ले। बिना पर्ची/prescription के मिलने वाली किसी भी दवा से बचें, क्योंकि यह माँ और बच्चे दोनों के लिए जोखिम भरा हो सकता है। कई बार एसा होता है की गर्भावस्था में दर्द और कई परेशानिया आती है और हम घर में मौजूद कोई भी दवा ले लेते है बिना डॉक्टर के सुझाव के, जो की बहुत खतरनाक सबित हो सकता है  । कुछ दवाएं आपके बढ़ते बच्चे के लिए हानिकारक हो सकती हैं। कोई भी ओवर-द-काउंटर या प्रिस्क्रिप्शन दवाएं और सप्लीमेंट लेने से पहले, अपने डॉक्टर से बात करें

शारीरिक गतिविधि को सीमित करना (Limiting Physical Activity)  

गर्भवती महिलाओं को कठिन श्रम से बचना चाहिए, हल्के व्यायाम और पैदल चलना आपके स्वास्थ्य और बच्चे के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। गर्भावस्था का मतलब यह नहीं है कि आपको एक गतिहीन जीवन शैली का नेतृत्व करने की आवश्यकता है। इसके बजाय आपको खुद को और अधिक सक्रिय बनाना चाहिए। कई लोगों का यह भी मानना है कि गर्भवती महिलाओं को शारीरिक गतिविधियों में शामिल नहीं होना चाहिए, लेकिन डॉक्टरों और  विशेषज्ञों का मानना है की हल्के व्यायाम माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है ।  

शराब/धूम्रपान  (Alcohol/Smoking)

गर्भावस्था के दौरान या स्तनपान के दौरान शराब पीना, धूम्रपान करना आपके बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। यह गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में गर्भपात का कारण बन सकता है। जो महिलाएं गर्भवती हैं, गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं या स्तनपान करा रही हैं, उन्हें धूम्रपान, शराब पीने से बचना चाहिए।  

कच्चा मांस  (Raw Meat)

यदि आप गर्भवती हैं, तो कच्चा मांस या बिना पके अंडे खाने से बचें, क्योंकि वे जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, ये बीमारियां गर्भपात और जन्म दोषों को भी आमंत्रित कर सकती हैं। कच्चे मांस, मछली और अंडे में हानिकारक रोगाणु हो सकते हैं जो आपको साल्मोनेला संक्रमण जैसे खाद्य विषाक्तता (food poisoning) दे सकते हैं। इन्हें पकाने से कीटाणु (bacteria) पूरी तरह मर जाते हैं, जो आपको और आपके बच्चे को बीमार होने से बचाने में मदद करते हैं। 

भोजन लंघन (Skipping Meals)  

विशेषज्ञों के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान भोजन छोड़ने से स्पष्ट रूप से समय से पहले जन्म का खतरा बढ़ जाता है। भोजन सेवन का एक पैटर्न प्रति दिन तीन भोजन और दो या अधिक नाश्ते के रूप में माना जाता है। गर्भ में पल रहा बच्चा अपने पोषक तत्वों के लिए पूरी तरह से मां के भोजन पर निर्भर करता है। भोजन से पोषक तत्व मां के सिस्टम में जाता है। भ्रूण के विकास के लिए सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्लेसेंटा के माध्यम से भ्रूण तक पहुंचते हैं। इसलिए बच्चे के समुचित विकास के लिए मां का भोजन महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के दौरान भोजन न करने के दुष्परिणामों का भी भ्रूण को अनुभव होगा। जब वह खाना छोड़ती है तो माँ को लगेगा कि उसकी ऊर्जा का स्तर काफी गिर रहा है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि एक स्वस्थ गर्भावस्था को आगे बढ़ाने के लिए माँ को एक इष्टतम ऊर्जा स्तर बनाए रखना चाहिए।

बहुत अधिक कैफीन  (Excess Caffeine)

कैफीन आपके रक्तचाप और हृदय गति और आपके शरीर द्वारा बनाए जाने वाले मूत्र की मात्रा को बढ़ा देता है। कैफीन के कारण आपको जलन, अपच या सोने में परेशानी हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक मात्रा में कैफीन का सेवन करने से गर्भपात या जन्म के समय कम वजन होने का खतरा बढ़ सकता है, इसलिए बेहतर होगा कि आप कैफीन का सेवन सीमित करें। कैफीन एक रसायन है जो कॉफी, चाय और कोला सहित कई खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में पाया जाता है। यह तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है और चिड़चिड़ापन, घबराहट और नींद न आने का कारण बन सकता है।

नींद की कमी (Lack of Sleep)

अगर आपको लगता है कि अपनी नींद का त्याग करने से आपको कार्य-जीवन संतुलन प्राप्त करने में मदद मिल सकती है, तो जान लें कि गर्भावस्था सुपरवुमन की भूमिका निभाने का समय नहीं है। गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तन अधिक आराम की मांग करते हैं। कम नींद वास्तव में आपकी गर्भावस्था-थकान को बढ़ाएगी। इसके अलावा, अपनी नींद की कमी को पूरा करने की कोशिश करें, क्योंकि आपके शरीर को प्रसव और प्रसव के तनाव से गुजरने के लिए आपको शारीरिक रूप से पर्याप्त रूप से फिट होने की आवश्यकता होगी।

सभी गर्भवती माताओं को हमेशा स्वस्थ जीवनशैली अपनाने की सलाह दी जाती है। थोड़ी सी अतिरिक्त देखभाल और एहतियात के साथ, आप एक स्वस्थ बच्चे के लिए एक स्वस्थ माँ बनने की संभावनाओं को बहुत बढ़ा सकते हैं।  

कुछ महत्वपूर्ण बातें ।

 1. आपको अपने जीवन में घटी बुरी घटनाओं के बारे में सोचना बंद कर देना चाहिए।

2. हर समय खुश रहने और आराम करने के लिए एक बेहतर माहौल बनाएं।

3. खाने और सोने का टाइम टेबल सेट करें और दवाई लेना कभी न भूलें।

5. हमेशा अपने बच्चे के अच्छे स्वस्थ्य और उनके उज्जवल भविष्य के बारे में बात करें।

6. यह जरुरी है कि कुछ अच्छी सकारात्मक और  उपयोगी चीजें पढ़कर प्रसव के डर से बचने की कोशिश करें।

7. आपके शरीर में होने वाले किसी भी परिवर्तन को नज़रअंदाज़ करें। गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन से आपको कई अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

8. अपना समय अपने पसंदीदा लोगो के साथ बिताने की कोशिश करें जैसे कि आप अपने साथी, परिवार और  दोस्तों के साथ  |

9.अपनी त्वचा और बालों की देखभाल करना जरूरी है।

10. अच्छा संगीत और अच्छी कहानियां सुनने की आदत डालें |

निष्कर्ष  

गर्भावस्था का समय एक खुशी से भरपूर समय है। यह स्त्री के साथ-साथ उसके घर में भी खुशियां लाता है। इसमें लोगों को उस स्त्री का खास खयाल रखना चाहिए। इसके साथ-साथ गर्भवती महिला को भी अपना ख्याल रखना चाहिए ताकि उसका शिशु सही सलामत इस दुनिया में आए। गर्भावस्था एक संवेदनशील चरण है जहां हमें सभी सकारात्मक वाइब्स (vibes) की आवश्यकता होती है ताकि हम हमेशा के लिए मातृत्व को अपना सकें।अगर आपको कोई  और परेशानी या फिर तकलीफ़ हो तो आप हमारे Healthybazar के डॉक्टर्स से www.healthybazar.com पर consult कर सकते है ।

Last Updated: Aug 9, 2022

Related Articles

Pregnancy Care

Ayurvedic Concept Of Pregnancy: गर्भिणी परिचर्या

Pregnancy Care

गर्भावस्था के नौ माह की डाइट और लाइफस्टाइल : Diet & Lifestyle in Pregnancy

Related Products

Dabur

Dabur Honey

0 star
(0)

Dabur Honey is fat-free, cholesterol-free, sodium-free and rightly called nature's sweet nectar.

₹ 35

Tikaram Naturals

Kesar

0 star
(0)

Saffron fights cancer, uplifts mood, and treat premenstrual syndrome symptoms.

 

₹ 270

Menjong Sorig

5 nectar herbal bath (dry)

0 star
(0)

₹ 950