search

Published 14-09-2022

प्रेगनेंसी में उल्टी रोकने के 5 घरेलु उपाए ।

PREGNANCY CARE

  प्रेगनेंसी में उल्टी रोकने के 5 घरेलु उपाए ।

Dr. Shivani Nautiyal

An Ayurvedic Practitioner and Consultant with a specialization in Panchkarma. My goal is to design an individual treatment plan to help each patient to achieve the best outcome possible. Treats Male and Female Fertility problems, Irregular Menstruation, Leucorrhea, UTI, COPD, Diabetes, Hypertension, Insomnia, Joint Pain, Arthritis, Sciatica, Skin problems, Alopecia, Grey Hairs, Gastric problems and other Lifestyle Disorders with Panchkarma Therapies and Ayurvedic Medicines.

जी मिचलाना और उल्टी गर्भावस्था का एक सामान्य लक्षण है लेकिन अगर ये ज़ादा होने लगते हैं तो वे परेशानी का कारण हो सकता हैं। उल्टी  आमतौर पर गर्भावस्था के शुरुआत से लेकर लगभग तीन महीने से  ज़्यदा  रहती है, फिर धीरे धीरे कम हो जाती हैं लकिन कुछ लोगो में यह नौ महीने तक भी रहती है उल्टी के बार-बार होने वाले एपिसोड आपको डिहाइड्रेट (Dehydrated) कर सकते हैं ,और आप थका हुआ और बीमार  महसूस करते हैं, इसके कारण हार्मोन में आये बदलाव, मूड स्विंग्स और थकान हो सकते हैं , हालांकि, उल्टी और मतली (जी मिचलाना), प्रेगनेंसी में उल्टी रोकने के घरेलू उपाय हैं जो आप को इससे राहत देंगे जिससे आप बेहतर महसूस करेंगे l

अदरक 

अगर आप जानना चाहती हैं कि गर्भावस्था के दौरान उल्टी से कैसे बचा जाए तो अदरक इसका जवाब है। यह पाचन में मदद करता है और पेट के एसिड के स्राव (discharge) को बैलेंस करता है। इसके लिए अदरक का एक छोटा टुकड़ा अपने मुंह में डालें और मतली  आने पर उसे चूसें। या 1 चम्मच शहद में 5 बूंद अदरक का रस मिलाएं। इसे सुबह सबसे पहले खाएं, रोजाना 1-2 कप अदरक की चाय पिएं। एक कप पानी में एक चम्मच पिसी हुई अदरक को कम से कम 10 मिनट तक उबालें। तरल को छान लें, शहद डालें और इसे धीरे-धीरे घूंट लें l

विटामिन बी6 

विटामिन बी 6 मतली से लड़ने के लिए बहुत ही कारगर माना जाता है, और यह बच्चे के लिए भी सुरक्षित है। अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के परामर्श से विटामिन बी6 की खुराक लें। या अपने आहार में केला, मछली, एवोकाडो, ब्राउन राइस, मक्का और नट्स शामिल करें।

नींबू

गर्भावस्था के दौरान उल्टी और मतली रोकने के लिए लोग अक्सर नीबू का इस्तेमाल करते हैं, इसकी महक आपके दिमाग को शांत करती हैं और मतली को भी कम कर सकती है। अपने दिन की शुरुआत एक गिलास पानी में ताजा निचोड़ा हुआ नींबू और एक चम्मच शहद के साथ करें। या जब आपको मतली महसूस हो रही है तो ताजा नींबू के छिलकों को सूंघें या एक रूमाल में नींबू के एसेंशियल (Lemon essential oil) तेल की कुछ बूंदें डालें और जब भी आपको मतली आए तो इससे सूंघे और गहरी सांस लें। या आप लेमन बाम (Lemon balm)  का भी उपयोग कर सकती हैं |

लौंग

लौंग का उपयोग यूनानी चिकित्सा में मॉर्निंग सिकनेस को दूर करने के लिए किया जाता रहा है। इनमें यूजेनॉल (Eugenol) नामक एक यौगिक होता है जो उन्हें एक मजबूत सुगंध और स्वाद प्रदान करता है । यह उल्टी और मतली के इलाज में मदद करता है। यह आपके पेट पर भी लाभदायक प्रभाव डालता है।  इसके लिए आपको चाहिये होगा- 2-3 लौंग , 1 कप गरम पानी , शहद (वैकल्पिक) अब  एक कप गर्म पानी में लौंग को 10 मिनट के लिए भिगो दें। छान लें और थोड़ा ठंडा होने दें। थोड़ा शहद डालें। लौंग की चाय पिएं। इसके अलावा आप  क्लोव एसेंशियल आयल (Clove essential oil) भी सूंघ सकती है जो की हमारी HealthyBazar website पे अवेलेबल (available) है l

पुदीने

पुदीने की कुछ ताजी पत्तियों को चबाकर खाने से मतली की परेशानी से छुटकारा मिलता है। पुदीने का तीखा स्वाद काफी ताज़ा और ठंडा होता है।  इसके लिए आप  एक हल्की पुदीने की चाय पिएं जो आपके लिए लाभदायक होगी , खासकर गर्भावस्था में। इसको इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें। इसके अलावा आप पेपरमिंट एसेंशियल आयल(Paper-mint essential oil ) या बाम (Paper-mint balm) लगा सकते है ,अपने माथे पे l

क्या मॉर्निंग सिकनेस से बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है ?

मतली और उल्टी आपके स्वस्थ गर्भावस्था पे असर नहीं करती । दिलचस्प बात यह है कि जिन महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस का अनुभव नहीं होता है, उनकी तुलना में मॉर्निंग सिकनेस का अनुभव करने वाली महिलाओं में गर्भपात और स्टिलबर्थ(stillbirth) कम होता है। बहुत कम ही महिलाओ को अधिक गंभीर मतली और लंबे समय तक उल्टी का अनुभव होता है, जिसके लिए डॉक्टर को दिखाना ज़रूरी हैं । यदि आपको अनुभव हो तो डॉक्टर से बात करें: निर्जलीकरण (Dehydration) के लक्षण (खड़े होने पर गहरे रंग का पेशाब या चक्कर आना) दिन भर में बार-बार उल्टी होना (खासकर अगर आपको उल्टी में खून दिखाई दे) दर्द या ऐंठन होना | 2 - 3 किलो से अधिक वजन कम होना आदि l

Note

गर्भावस्था के दौरान जी मिचलाना और उल्टी के लिए येतुरंत (immediately) और आसान घरेलू उपचार मॉर्निंग सिकनेस से काफी हद तक राहत दिला सकते हैं। लेकिन अगर आपकी उल्टी बेहद गंभीर है, और आप जो कुछ भी खाते या पीते हैं, उसे फेंक देते हैं, तो यह किसी खाद्य एलर्जी (Food allergy) या संक्रमण के कारण हो सकता है। इसलिए, उचित दवा के लिए डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर है। स्व-दवा मत करो (Avoid self medication) कभी-कभी, स्व-दवा से गर्भपात या बच्चे को दीर्घकालिक (long term) नुकसान हो सकता है।

निष्कर्ष/Conclusion

पहली तिमाही के दौरान ज्यादातर गर्भवती महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस का अनुभव होता है। हालांकि, कुछ मामलों में, यह पूरे गर्भावस्था के दौरान अनुभव किया जाता है। अगर आपको अक्सर मतली या उल्टी का अनुभव होता है, तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ऊपर बताए गए उपायों को आजमा सकते हैं।अगर आपकोे   कोई और समस्या है या आप डॉक्टर से सलाह लेना चाहती है तो आप हमारी website www.healthybazar.com से डॉक्टर्स कंसल्टेशन ले सकते है ।

 

Last Updated: Sep 14, 2022

Related Articles

Mental Health , Lifestyle Diseases , Female Reproductive Health

Post-partum Depression/पोस्टपार्टम डिप्रेशन ।

Pregnancy Care

गर्भावस्था के नौ माह की डाइट और लाइफस्टाइल : Diet & Lifestyle in Pregnancy

Related Products

Dabur

Dabur Chyawanprakash sugar free

0 star
(0)

Dabur Chyawanprash Sugar-Free is low on calories and boosts immunity.

₹ 345

Tikaram Naturals

Gudhal Phool Powder | Jaswand

0 star
(0)

Gudhal Phool Powder promotes hair growth, reduces blood pressure, and treats diabetes.

₹ 23

Baidyanath

Amla Pittantak Yog

0 star
(0)

It is mainly used in the treatment of gastritis and dyspepsia etc.

₹ 175