search

Published 27-09-2022

पेट में कब्ज होने से कौन सी बीमारी होती है ?

CONSTIPATION

पेट में कब्ज होने से कौन सी बीमारी होती है ?

Dr. Asfiya Najmi

An Unani Practitioner and consultant graduated from Hamdard University. I am an expert in cupping (Hijjama). My real goal is to heal every patient with natural treatment and give them comfort through her extensive knowledge & experience. Playing volleyball and chess is also something that i love.

मज़ाक करने के लिए जोक्स क्रैक करने के लिए कब्ज़ एक अच्छा विषय हो सकता है, लेकिन इस परेशानी का सामना करने वालों के लिए यह सबसे मुश्किल परेशानियों में से एक है। कब्ज दर्दनाक हो सकता है। इसके अलावा, यह अक्सर गैस और पेट दर्द के साथ होता है। कब्ज किसी भी उम्र के लोगो को प्रभावित करने वाली एक सामान्य स्थिति है। सरल और सादी जीवनशैली को अपनाने से कब्ज के लक्षण को दूर करने में मदद मिलती है। कब्ज से राहत और बचाव के लिए सदियों से घरेलू उपचार का उपयोग किया जाता रहा है। हालांकि,  कब्ज के बारे में बात करने में शर्मिंदगी महसूस होना सामान्य है। इसलिए, यदि आपका कब्ज खराब है या लक्षणों में सुधार नहीं होता है तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

कब्ज का कारण क्या है:

जब आपका मल सख्त, सूखा और निकलने में मुश्किल होता है तो आपको कब्ज़ महसूस होता है। कब्ज के कुछ सामान्य कारण हैं:

-   कम पानी पीना

-  खाने में काम फाइबर वाली चीज़े खाना

-  शारीरिक गतिविधि की कमी

- तनाव

- आसपास के वातावरण में अचानक बदलाव

- सही समय पर मल त्याग ना करना

कब्ज के अन्य कुछ और भी कारण हैं जैसे कुछ दवाएं जैसे आयरन की गोलियां और दर्द निवारक दवाएं, गर्भावस्था में जुलाब का अत्यधिक उपयोग पार्किंसंस, अवसाद, ह्य्पोथयरॉडिज़्म  (Hypothyrodism) पाचन  में आंत की बीमारी  (IBS), Inflammatory bowel disorder.

पेट में कब्ज़ के लक्षण : 

यदि आप निम्न लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आप कब्ज से पीड़ित हो सकते हैं।

- मल त्याग करने मे दर्द होना 

- सामान्य से अधिक समय तक शौचालय में बैठना

- बाद में यह महसूस होना कि आंत पूरी तरह से खाली नहीं हुई है

- सूखा और सख्त मल होना 

- पेट में ऐंठन होना

- पेट में सूजन  होना 

- मल त्याग सही से ना होने से दिमाग में तनाव बना रहना 

- बार-बार मल त्याग करना

कब्ज़ से होने वाली बीमारी : 

1- बवासीर

जब आपको कब्ज होता है, तो आप मलाशय (Anal canal) पे ज़ोर लगते हैं इससे आपके मलाशय और गुदा के आसपास की नसें सूज सकती हैं। इन सूजी हुई नसों को बवासीर या बवासीर कहा जाता है। 
बवासीर में खुजली और दर्द हो सकता है। जब आप मल त्याग करते हैं तो वे रक्तस्राव का कारण बन सकते हैं। कभी-कभी रक्त बवासीर के अंदर जमा हो सकता है, जो एक दर्दनाक, सख्त गांठ बन सकता है। आपको बवासीर से त्वचा के टैग, रक्त के थक्के या संक्रमण भी हो सकते हैं।

2- गुदा विदर (Anal Fissure)

सख्त मल पास करना या मल त्याग करने के लिए जोर लगाना आपके गुदा के आसपास के ऊतक को फाड़ सकता है। ये गुदा (Fissure) हैं। वे खुजली, दर्द और रक्तस्राव की वजह बन सकते हैं । क्योंकि गुदा विदर के लक्षण बाथरूम में जाना अधिक कठिन बनाते हैं, वे कब्ज को बदतर बना सकते हैं। यह बच्चो में भी हो सकता हैं खासकर उन बच्चों में होता है जो दर्द के डर से अपना मल रोकते हैं।

3- गुदा का बाहर आ जाना

आपका मलाशय, आपकी बड़ी आंत का अंतिम भाग, आपके गुदा पर समाप्त होता है। जब आप मल त्याग करने के लिए लगातार दबाव बना रहे होते हैं, तो यह आपके शरीर के बाहर खिंचाव और फिसल सकता है। कभी-कभी मलाशय का सिर्फ एक हिस्सा ही निकल आता है, लेकिन कभी-कभी पूरी चीज निकल जाती है।
यह दर्दनाक हो सकता है और रक्तस्राव का कारण बन सकता है। कभी-कभी यह बताना मुश्किल हो सकता है कि क्या आपके पास रेक्टल प्रोलैप्स या बवासीर है, क्योंकि दोनों गुदा से बाहर निकलने का कारण बनते हैं, लेकिन ये दो अलग-अलग स्थितियां हैं जिनका अलग-अलग इलाज करने की आवश्यकता होती है।

 नुस्खे कब्ज़ की बीमारी को दूर करने के -  

- पान का पत्ता
पान के पत्ते पाचन में सहायता कर सकते हैं, और पाचक रस, सूजन और गैस से आराम दिलाता है l पान का पत्ता कब्ज को दूर करने में भी मदद करता है। खाना खाने के बाद कुछ ताजी पान के पत्तों को चबाने से पाचन में मदद मिलती है और कब्ज से राहत मिलती है।

- तेज पत्ता

हिंदुस्तान में तेज पत्र घरों में इस्तेमाल की जाने वाली एक आम सी जड़ी-बूटी है। अपने खाने में  तेज पात्र को शामिल करने से अपच और कब्ज से राहत मिल सकती है। तेज पात्र को आप चाय के रूप में भी ले सकते हैं। तेज पत्र चाय बनाने के लिए आप कुछ पत्तियों (1- 1/2) को पानी में कुछ मिनट तक उबाल सकते हैं। इसको एक कप में छान लें, और आपकी चाय पीने के लिए तैयार है।

- अरंडी

अरंडी कब्ज़ की बीमारी में इस्तेमाल होने वाली एक बहुत ही मशहूर दवा है। अरंडी की जड़ों को पाउडर बना कर दूध के साथ प्रयोग किया जा सकता है। कुछ सूखे अरंडी की जड़ लें और इसे एक महीन पाउडर में पीस लें। इस चूर्ण  (1/2) को एक गिलास दूध में मिला कर लें। कब्ज दूर करने के लिए इस मिश्रण का सेवन करें।

निष्कर्ष:

कब्ज आज के समय में एक सामान्य लेकिन दर्दनाक स्थिति है जो आपकी दैनिक कामो में रुकावट ला सकती है। घरेलू उपचार और जीवनशैली में बदलाव  करने से इसमें राहत मिल सकती  हैं। रोज़ व्यायाम के साथ खाने पीने में फाइबर का सेवन बढ़ाना कब्ज को दूर करने के अन्य प्रभावी तरीके हैं। हालांकि, यदि आपके लक्षणों में सुधार नहीं होता है और आप लगातार तीन दिनों तक मल त्याग करने में असमर्थ हैं, तो अपने डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए । यदि आप डॉक्टर से सलाह लेना चाहते है तो आप हमारे website www.healthybazar.com पर visit कर सकते है । 

Last Updated: Sep 27, 2022

Related Articles

Constipation , Piles

क़ब्ज़ का इलाज/Constipation ka ilaj

Constipation

Constipation: Causes, Triggers, and Treatment with Ayurveda

Related Products

Vyas Pharma

Kabjeena Churna

0 star
(0)

Vyas Kabjeena Churna relieves constipation, acidity, and headaches.

₹ 80

Tikaram Naturals

Constipation Herbal Mix

0 star
(0)

Formulation with effective herbs saunf, sanay, harad, saunth, nishoth, amla etc.

₹ 150